मेमोरी बोलते ही हमें अपने मोबाइल की मेमोरी के बारे में याद आ जाते है, ठीक उसी तरह कंप्यूटर भी बिना मेमोरी चल नहीं सकते| कंप्यूटर मेमोरी क्या है, इसे भी हम आसानी से समझ सकते है यह एक ऐसा उपकरण है जिसमे की कंप्यूटर के भितर जो भी data, information, Command या program को digitally  संग्रहण या स्टोर करके रखने की क्षमता होते है, उसे मेमोरी कहते है|

कंप्यूटर मेमोरी क्या है (What is Computer Memory in Hindi)?

हमें भी अगर बीते हुए पल की याद करना है तो हमारे यद्दास या स्मरण शक्ति की जरुरत होते है, जो की हमारी मस्तिस्क हमें कण्ट्रोल करते है, ठीक उसी तरह कंप्यूटर का भी उसके अंदर चल रहे गतिबिधि या तो user द्वारा दिए गए डाटा, इनफार्मेशन, कमांड  या प्रोग्राम को digitally संगृहित (stored) करके रखने के लिए  कुछ उपकरण की जरुरत होते है, उसी उपकरण को मेमोरी कहते है| कंप्यूटर के मेमोरी CPU यूनिट के अंदर लगे रहते है और यह कंप्यूटर की अभिन्न अंग है, मेमोरी के बिना कंप्यूटर कुछ काम कर नहीं पाते|

 

इन्हें भी पड़े⇓

कंप्यूटर क्या है ?

›इनपुट डिवाइस क्या है और इसके प्रकार?

आउटपुट डिवाइस क्या है और इसके प्रकार?

 

कंप्यूटर मेमोरी के प्रकार- (Types of Computer Memory)

कंप्यूटर मेमोरी को मुखय रूप से दो भागो में भाग किया गया है, जैसे-

1) Primary Memory या main memory

2) Secondary या Auxiliary memory

 

1) Primary memory किसे कहते है? (प्राथमिक मेमोरी)

मेमोरी कंप्यूटर का सबसे महत्तपूर्ण भाग है, जहा डाटा, सूचना, प्रोग्राम आदि प्रोसेसिंग के दौरान उपस्थित रहते है और आवश्यक पड़ने पर  तत्काल  उपलब्द रहते है| इसे primary मेमोरी या main मेमोरी भी कहते है और यह एक internal मेमोरी है और CPU के अंदर रहता है| इस memory का storage capacity कम होता है लेकिन इसका speed ज्यादा होता है|

Primary memory भी तिन प्रकार के है –

क) RAM

ख) ROM

ग) Cache Memory

 

क) RAM क्या है? (What is RAM in Hindi) –

RAM का फुल फॉर्म है Random Access memory, RAM कंप्यूटर के अस्थाई मेमोरी (Temporary Memory) होती है| RAM में data या program अस्थाई रूप से स्टोर रहता है| कंप्यूटर बंद हो जाने या बिजली जाने पर रैम में स्टोर हुवा डाटा मिट जाती है, इसीलिए रैम को Volatile या अस्थाई मेमोरी कहते है|

RAM तिन प्रकार के है – 

  •  D RAM,
  • S D RAM 
  • S RAM

Dynamic RAM :Dynamic या DRAM सबसे अधिक साधारण है तथा इसे जल्दी जल्दी refresh. करने की अबस्यकता पड़ती है| यह जल्दी जल्दी refresh होने के कारन इसके गति कम होती है|

Synchronous Dynamic RAM: यह S D RAM डीरेम (DRAM) की अपेक्षा ज्यादा तेज है| इसकी तेज गति के कारण यह है की वह CPU की घडी के अनुसार refresh होती है, इसीलिए यह data को तेजी से transfer करता है|

Static RAM: इस S RAM में कम refresh  होती है, कम रिफ्रेश  होने के कारन यह डाटा को मेमोरी में अधिक समय तक रखता है| यह रैम DRAM की अपेक्षा से तेज तथा महँगी होती है|

RAM मेमोरी के विशेषता क्या है –

  • RAM का इस्तेमाल read और write करने के लिए करते है |
  • यह मेमोरी वोलेटाइल (volatile) या अस्थाई होते है, जिसका मतलब कंप्यूटर का पॉवर ऑफ हो जाने पर डाटा भी लोस्ट हो जाते है|
  • RAM का स्टोरेज capacity कम होता है |
  • इसका speed बहुत ज्यादा होता है |
  • RAM बहुत महंगा होता है |

 

ख) ROM क्या है? (What is ROM in Hindi)-

ROM का फुल फॉर्म है “Read Only Memory”, इसे शोर्ट मे ROM कहते है |ROM कंप्यूटर के स्थाई मेमोरी या permanent memory होती है, जिसमे कंप्यूटर के निर्माण के समय ही प्रोग्राम को store कर दिए जाते है| इसमें कोई data lost नहीं होती है| इसे Non-Volatile मेमोरी भी कहते है|

ROM को चार भागो में भाग किया गया है –

  • PROM,
  • EPROM,
  • PROM
  • Flash ROM

PROM (Programmable Read Only Memory): यह एक ऐसी मेमोरी है इसमें एक बार डाटा संग्रहित (store) औरहोने के बाद इन्हें मिटाया नहीं जा सकता न ही परिबर्तन किया जा सकता है|

EPROM (Erasable Programmable Read Only Memory): या भी PROM की तरह ही होते है, लेकिन इसमें संग्रहित प्रोग्राम को पराबैगनी किरणों (Ultraviolet  Rays) के द्वारा ही मिटाया जा सकता है और नए प्रोग्राम संग्रहित किये जा सकते है|

EEPROM (Electrical Erasable Programmable Read Only Memory): यह एक नए तकनीक के मेमोरी है जिसमे memory से प्रोग्राम को electrically बिधि से मिटाया सकता है|

Flash ROM (Flash Read- only Memory): यह EEPROM से अधिक उन्नत है और EEPROM से अधिक तेज भी है| इस दोनो मे अंतर यह की, EEPROM को 1 बाईट डाटा को किसी विशेष समय में हटाने या लिखा जा सका तो, Flash ROM में एक ही समय में 512 बाईट को हटाया या लिखा जा सकता है|

ROM की बिसेषता क्या है –

  • ROM only पड़ (read) सकते है |
  • यह स्थाई या Non-Volatile मेमोरी है, अर्थात कंप्यूटर बंद या power off होने पर भी डाटा लोस्ट नहीं होता है |
  • ROM कंप्यूटर के स्थाई मेमोरी है|
  • ROM का स्पीड कम होता है|

 

ग) Cache Memory क्या है ? (What is Cache Memory in Hindi)-

Cache memory computer के सबसे तेज मोमोरी है, यह बहुत ही high speed semiconductor memory है| Cache memory CPU को speedup करने का काम करते है| यह main memory और CPU के बिच Buffer का काम करती है| जो CPU द्वारा कुछ देर पहले frequently used program और निर्देश को संगृहित कर सके ताकि CPU तेजी से काम कर सके|

Cache मेमोरी की विशेषता क्या है –

  • Cache memory प्राथमिक मेमोरी से तेज होते है |
  • इसमें डाटा अस्थाई रूप से stored होता है |
  • Cache memory के stored capacity सिमित होते है |
  • Stored data को बार बार साफ करना पड़ता है |
  • इसमें Frequently इस्तेमाल होने वाले प्रोग्राम या command stored होते है|

 

2) Secondary या Auxiliary memory किसे कहते है?

इस मेमोरी को External या Non-Volatile memory भी बोलते है| इसमें स्टोर किया डाटा या इनफार्मेशन स्थाई यानि permanent रूप से स्टोर कर सकते है, और इसमें अनलिमिटेड स्टोर कर सकते है| इसका स्टोरेज capacity अपने हिसाब से कम या ज्यादा कर सकते है और इसका स्पीड बहुत कम होते है|

सेकेंडरी मेमोरी की उदहारण –

  • Magnetic Tap(मैग्नेटिक/चुम्बकीय टेप)
  •  Floppy Disk (फ्लॉपी डिस्क)
  • HDD (Hard Disk Drive) हार्ड डिस्क ड्राइव
  •  USB Flash Drive (युसबी फ्लश ड्राइव)
  • Optical Disk (ऑप्टिकल डिस्क)

Magnetic Tap (मैग्नेटिक/चुम्बकीय टेप): इसमें प्लास्टिक के रिबन पर चुम्बकीय पदार्थ की परत चडी होती थी| जिस पर data स्टोर करने के लिए हेड का प्रयोग किया जाता था| इस तरह का टेप आजकल use नहीं होती, पहेले होती थी|

Floppy Disk (फ्लॉपी डिस्क): यह डिस्क प्लास्टिक के बहुत पतले गोल डिस्क होती है, जो एक प्लास्टिक के कबर में बंद रहती थी और इसी डिस्क पर चुम्बकीय परत लगी होती थी|

HDD (Hard Disk Drive) हार्ड डिस्क ड्राइव: यह एक अलुमिनिआम के धातु की डिस्क होती है जिस पर पदार्थ का लेप चड़ा रहता है| यह डिस्क एक धुरी पर बहुत तेजी से घुमती है और इसकी गति को RPM यानि Revolutions per Minute या चक्कर/ घूर्णन प्रति मिनट मे मापा जाता है| हार्डडिस्क ड्रिव मे Track और sector मे डाटा स्टोर होता है| एक सेक्टर में 512 bite डाटा स्टोर होता है| data को store या पड़ने के लिए तिन तरह का समय लगते है, जैसे Seek Time, Latency Time और Transfer Rate

  • Seek Time:डिस्क में डाटा को read या write करने वाले track तक पहुचने में लगा समय को Seek Time कहलाता है|
  • Latency Time: डिस्क के track में data के sector तक पहुचने में लगा समय को Latency Time कहते है|
  • Transfer Rate: डिस्क के sector में डाटा को लिखने या पड़ने में जो समय लगता है उसे Transfer Rate कहते है|

Optical Disk (ऑप्टिकल डिस्क): इस ऑप्टिकल डिस्क में पाली कार्बोनेट की डिस्क होती है, जिस पर एक रासायनिक पदार्थ का लेप रहता  मेंहै, optical disk में डाटा digitally रूप में सूरक्षित रहता है, डाटा को ऑप्टिकल डिस्क पर read या write करने के लिए कम क्षमता वाले प्रकाश का प्रयोग किया जाता है| ऑप्टिकल डिस्क का उदहारण है- सीडी (CD), डीवीडी  ड्राइव (DVD), ब्लू रे (Blu Ray)

USB Flash Drive (युसबी फ्लश ड्राइव): यह बर्तमान समय में बहुत ही जनप्रिय और  पोर्टेबल सेकेंडरी memory डिवाइस है, जो USB पोर्ट में द्वारा कंप्यूटर से जोड़ी जाती है, जिसे हम pendrive के नाम से भी जानते है, इसका प्रयोग भिडियो, ऑडियो के अलावा अन्य data को सेब करने के लिए भी किया जाता है|

सेकेंडरी मेमोरी का विशेषता क्या है

  • सेकेंडरी मेमोरी  स्थाई (permanent) रूप से डाटा को स्टोर करते है |
  • कंप्यूटर का पॉवर ऑफ होने पर भी डाटा लोस्ट नहीं होते, परमानेंटली स्टोर होते है, इसीलिए इसे Non-Volatile मेमोरी भी कहते है |
  • इसका स्टोरेज capacity बहुत ज्यादा है |
  • सेकेंडरी मेमोरी को Backup मेमोरी भी कहते है |
  • इसका स्पीड बहुत स्लो होता है प्राइमरी मेमोरी के ततुलना में |

 

कंप्यूटर के मेमोरी यूनिट क्या है (Computer memory Units in Hindi)? 


कंप्यूटर के मेमोरी unit को नापने के लिए भी Bit या Binary digit का इस्तेमाल होते है, अर्थात memory के storage capacity 0 या 1 के रूप से संग्रहित रहते है और इन दो संख्या को Binary digit या Bits कहते है| प्रत्तेक अंक एक Bit को प्रस्तुत करता है| इसीलिए computer memory के सबसे छोटे इकाई Bit होती है|

चलिए जानते है memory unit क्या क्या है

  • Bit                 = 0 या 1
  • 4 Bit             = 1 Nibble
  • 2 Nibble या 8 Bit = 1 Byte
  • 1024Byte    = 1 KB (Kilo Byte)
  • 1024 KB      = 1 MB (Mega Byte)
  • 1024 MB     = 1 GB (Giga Byte)
  • 1024 GB     = 1 TB (Tera Byte)
  • 1024 TB     = 1 PB (Penta Byte)
  • 1024 PB     = 1 EB (Exa Byte)
  • 1024 EB    = 1 ZB (Zeta Byte)
  • 1024 ZB    = 1 YB (Yotta Byte)
  • 1024 YB    = 1 BB (Bronto Byte) (Unofficial)
  • 1024 BB   = 1 GpB/GEB (Geop Byte) (Unofficial)

 

कंप्यूटर मेमोरी के बारे मे हमने क्या सिखा (FAQ)


1) कंप्यूटर मेमोरी क्या है या कंप्यूटर मेमोरी किसे कहते है?

उत्तर : यह एक ऐसा उपकरण है जिसमे की कंप्यूटर के भितर जो भी data, information, Command या program को digitally  संग्रहण या स्टोर करके रखने की क्षमता होते है, उसे मेमोरी कहते है|

2) कंप्यूटर मेमोरी के कितने प्रकार है ?

उत्तर: कप्यूटर मेमोरी दो प्रकार के होते है – प्राइमरी और सेकेंडरी |

3) कंप्यूटर मेमोरी की क्या क्या प्रकार है ?

उत्तर: प्राइमरी या Main मेमोरी और सेकेंडरी या औक्सिलिअरी मेमोरी |

4) Primary Memory किसे कहते है ?

उत्तर:  जिन मेमोरी मे डाटा, सूचना, प्रोग्राम आदि प्रोसेसिंग के दौरान उपस्थित रहते है और आवश्यक पड़ने पर तत्काल उपलब्ध रहते है, उसे  Primary  Memory या Main memory कहते है |

5) Secondary Memory क्या है ? (What is Secondary Memory in Hindi) 

उत्तर: कंप्यूटर के जिन मेमोरी मे स्टोर किया गया डाटा या इनफार्मेशन अदि स्थाई यानि permanent रूप से स्टोर कर सकते है और इसमें अनलिमिटेड डाटा स्टोर कर सकते है, उस मेमोरी को Secondary Memory कहते है | इसको External या Non-Volatile मेमोरी भी कहते है |

6) Non-Volatile मेमोरी कौन सी है ?

उत्तर : Hard Disk, Floppy Disk, Magnetic Tap, CD, DVD, Memory Card, Pendrive, Blue Ray Disk आदि Non-Volatile मेमोरी है |

7) कंप्यूटर मेमोरी मे दर्ज किए जाने वाले डाटा या निर्देश को क्या कहते है ?

उत्तर: इनपुट (Input) कहते है |

8) Cache मेमोरी क्या है ?

उत्तर : यह मेमोरी बहुत ही तेज और high speed semiconductor मेमोरी है, इसने CPU को speedup करने का काम करते है| यह main memory और CPU के बिच Buffer का काम करता है|

 

सम्बन्धित लेख

सॉफ्टवेर क्या है?

हार्डवेयर क्या है?

सॉफ्टवेर और हार्डवेयर क्या है ?

 

Conclusion :

आशा करता हु हमारी इस लेख मे कंप्यूटर मेमोरी क्या है  और इसके प्रकार (What is Computer Memory in Hindi) इसके बारे मे दी गई जानकारी आपको पसंद आया होगा| अगर आपके मनमे कोई सवाल आ रहा है या तो कुछ सुझाव देना चाहते है तो निचे दिए गए कमेंट बॉक्स मे लिख सकते है|