लिंग किसे कहते है | लिंग कि परिभाषा, इसकी प्रकार या भेद |

लिंग किसे कहते है? लिंग के परिभाषा इसकी प्रकार या भेद ?

लिंग शब्द संस्कृत से लिया गया है, लिंग का शाब्दिक अर्थ है चिन्ह या निशान अर्थात पुरुष चिन्ह या स्त्री चिन्ह | पुरुष चिन्ह वाले को पुरुष जाति कहते है और स्त्री चिन्ह वाले को स्त्री जाति कहते है | जिन शब्दों द्वारा किसी व्यक्ति, वस्तु या प्राणी का पुरुष या स्त्री होने का बोध कराता है उस शब्द को लिंग कहते है | अंग्रेजी में इसे Gender कहते है |

 

लिंग किसे कहते है (Ling kise kahate hain)?

सरल भाषा मे लिंग कहे तो, जिन शब्दों द्वारा किसी व्यक्ति, वस्तु या प्राणी का पुरुष या स्त्री होने का बोध कराता है उस शब्द को लिंग कहते है | अंग्रेजी में इसे Gender कहते है | हिंदी व्याकरण मे लिंग दो प्रकार के होते है -पुलिंग और स्त्री लिंग |

 

पुलिंग के उदाहरण : पुरुष जाति – लड़का, पिता, घोडा, हाथी, कुत्ता, शेर आदि पुरुष जाति का बोध कराता है इसीलिए इन्हें पुलिंग कहते है |

स्त्री लिंग के उदाहरण:  स्त्री जाति : माता, बकरी, मोरनी, गाय, लड़की, बहन आदि संज्ञा स्त्री जाति का बोध कराता है, इन्हें स्त्री लिंग कहा जाता है |

इसे भी पड़े ⇓

पद किसे कहते है ?

सर्वनाम किसे कहते है ?

अव्यय किसे कहते है ?

लिंग (Gender) कितने प्रकार के होते है ?

संस्कृत मे लिंग तिन प्रकार के होते है – पुलिंग, स्त्री लिंग और नपुंसक लिंक |

लेकिन हिंदी व्याकरण मे लिंग (Gender) दो प्रकार के होते है | जसी की –

पुलिंग (Masculine Gender)

स्त्री लिंग (Feminine Gender)

 

पुलिंग किसे कहते है?

जिन संज्ञा शब्दों द्वारा किसी व्यक्ति, वस्तु या प्राणी का पुरुष जाति को बोध कराता है उसे पुलिंग कहते है |

जैसे की – पिता, लड़का, घोडा, शेर, हाथी  आदि |

 

स्त्री लिंग किसे कहते है ?

जिन संज्ञा शब्दों द्वारा किसी व्यक्ति, वस्तु या प्राणी का स्त्री जाति का कराता है उसे स्त्री लिंग कहते है |

जैसे की – माता, बहन, महिला, बकरी, शेरनी, मोरनी, गाय आदि |

नपुंसक लिंग किसे कहते है ?

यह नपुंसक लिंग हिंदी का भाग नहीं है, यह लिंग संस्कृत या अन्य अंग्रेजी भाषा मे पाया जाता है | जिन शब्द द्वारा ऐसे पदार्थ का बोध होता है की, न तो पुलिंग जाति का बोध हो और न ही स्त्री जाति का बोध होता है, उसे नपुंसक लिंग कहते है |

 

लिंग निर्णय के नियम :

पुलिंग की पहचान के नियम 

1) जिन शब्दों के अंत मे “आ, त्व, पा, पन, न” आदि प्रत्यय लगते है तो उसे पुलिंग कहते है |

उदाहरण – तन, मन, धन, बुड़ापा, लड़कपन, बचपन, सतीत्व, मोटापा आदि |

 

2) हर कोई पेड़ो के नाम पुलिंग होते है |

जैसे की – आम, बदगछ, सागौन, जामुन आदि पेड़ पुलिंग है |

 

3) किसी पर्वत के नाम भी पुलिंग होता है |

जैसे की – हिमालय, कंचनजंगा, माउंटएवेरेस्ट, कैलाश, विंध्याचल आदि पर्वत के नाम पुलिंग होते है |

 

4) दिनों अर्थात Day बार के नाम पुलिंग होते है |

जैसे की – सोमबार, मंगलबार, बुधबार, बृहस्पति बार, सुक्रबर, सनिबार, रविबार आदि पुलिंग होते है |

 

5) समय सूचक  का नाम भी पुलिंग होता है |

जैसे की – घंटा, पल, क्षण, सेकंड, मिनिट, दिन, महिना, वर्ष आदि पुलिंग होता है |

 

6) महीनो के नाम पुलिंग होता है |

जैसे की – वैशाख, जेठ, आषाड़, श्रावण, भाद्रपद, अश्विन, कार्तिक, मंशिश, पौष, माघ, फाल्गुन, चैत्र, फेबवारी, मार्च, अप्रैल, जून, अगस्त, सितम्बर, अक्टूबर, नोवेम्वर, दिसम्बर  आदि पुलिंग होता है  (लेकिन अपवाद : जनवरी, मई, जुलाई स्त्री लिंग होता है)

 

7) कोई देश और नगर के नाम पुलिंग होते है |

जैसे की – भारत, नेपाल,  बंलादेश, अमेरिका, पाकिस्तान, भूटान, सिंगापूर, चीन , दिल्ली, काठमांडू, मुंबई, गुवाहाटी आदि पुलिंग होता है |

 

8) किसी धातु के नाम पुलिंग होता है |

उदाहरण – सोना, चांदी, लोहा, पितल आदि धातु के नाम पुलिंग होता है |

 

9) अनाज के नाम पुलिंग होता है |

उदाहरण – धान, गेहू, चावल, मटर, चना, जोऊ आदि (लेकिन अपवाद : मक्की, ज्वार, अरहर, मुग स्त्री लिंग होता है) |

 

10) शारीर के अंग के नाम पुलिंग होता है |

जैसे की – नाक, कान, हाथ, पाव, मुख, दांत, जिभ, नश, मस्तिस्क आदि (लेकिन अपवाद : जीभ, आख, नाक, उंगलिया स्त्री लिंग होता है)|

 

11) फूलो के नाम पुलिंग होता है |

जैसे की – कमल, गुलाब, पदुम, गेंदा, केतेकी आदि |

 

12) फलो के नाम पुलिंग होता है |

जैसे की – केला, संतरा, तरबूज, आम, जामुन आदि पुलिंग है (लेकिन अपवाद : लीची, खजूर स्त्री लिंग होता है )|

 

13) वृक्ष के नाम पुलिंग होता है |

जैसे की – पीपल, बरगद, अमरुद, पलाश, चिनार, देवदार आदि पुलिंग होता है (लेकिन अपवाद : इमली स्त्री लिंग होता है)

 

14) नक्षेत्र या ग्रह के नाम पुलिंग होता है |

जैसे की – सूर्य, चन्द्र , शनि, बुध, बृहस्पति, बुध आदि (लेकिन अपवाद : पृथिवी स्त्री लिंग होता है) |

 

15) किसी द्वीप के नाम भी पुलिंग होता है |

उदाहरण – अंडमान-निकुबर, माजुली, जावा, क्युवा |

 

16) किसी सागर के नाम भी पुलिंग होता है |

जैसे की – भारत महासागर, प्रशांत महासागर, आरब सागर, हिन्द महासागर |

 

17) समूहवाचक कुछ संज्ञा पुलिंग होता है |

जैसे की – समाज, मंडल, दल, समूह, वर्ग आदि |

 

18) वर्णमाला के अक्षर भी पुलिंग होता है |

जैसे की – क, ख, ग, घ, अ, आ, च, छ आदि (लेकिन इ, ई, ऋ स्त्री लिंग होता है)

 

19) द्रव्य पदार्थ के नाम पुलिंग होता है |

जैसे की – घी, दही, दूध, पानी, तेल, पेट्रोल, शरबत आदि (लेकिन चाय, कफी, लस्सी और चटनी स्त्री लिंग होता है)

 

20) रत्नों के नाम पुलिंग होता है |

जैसे की – मणि, मिकुता, मोती हिरा, मुगा आदि |

 

21) “दान, खान, वाला “आदि से जुड़े अंत होने वाला शब्द अधिकतर पुलिंग होता है |

जैसे की – खानदान, दूधवाला, दवाखाना, जेलखाना, दुकानवाला आदि |

 

22) समूह वाचक संज्ञाभी पुलिंग होता है |

जैसे की – सभा, समाज, दल, मण्डल, वर्ग, पंचायत आदि |

 

23) कुछ प्रानिवाचक  शब्द सदा पुलिंग होता है |

जैसे की – साधू, खटमल, मच्छर, चिता, कवी कोवा, गीदड़, बालक आदि |

 

24) जल, श्थान, भू-मंडल के भाग के नाम भी पुलिंग होता है |

जैसे की – समुद्र, भारत, नेपाल, दिल्ली, नगर, द्वीप, आकाश, पाताल, सरोवर आदि |

 

 स्त्री लिंग की पहचान के नियम

1) भाषा, बोली और लिपिओ के नाम स्त्री लिंग होता है |

जैसे की – हिंदी, देवनागिरी, पहाड़ी, नेपाली, संस्कृत, पंजाबी, मैथिलि आदि |

 

2) नदियोंके नाम स्त्री लिंग होता है |

जैसे की – ब्रह्मपुत्र , गोदावरी, कावेरी, नर्मदा, यमुना, गंगा आदि |

 

3) तारीख और तिथियों के नाम स्त्री लिंग होता है |

जैसे की – पहली, दूसरी, प्रथमा, द्वितीया, पूर्णिमा, प्रतिपदा आदि |

 

4) जिन संज्ञा शब्द के अंत में होता है उसे स्त्री लिंग कहा जाता है |

जैसे की – भूख, लाख, देख, रेख, आख आदि शब्द |

 

5) पुस्तकके नाम स्त्री लिंग होता है |

जसी की – बाइबल, कुरान, त्रिपिटक, गीता, रामायण, महाभारत, रामचरितमानस आदि |

 

6) आहारके नाम भी स्त्री लिंग होता है |

जैसे की – सब्जी, दाल, पकोड़ी, पूरी, कचौड़ी, रोटी आदि |

 

7) अभुष्ण औग वस्त्रोके नाम स्त्री लिंग होता है |

जैसे की – धोती, टोपी, सलवार, साड़ी, पेंट, कमीज, चुन्नी, पगड़ी, माला, चूड़ी, बिंदी, नथ, अंगूठी आदि शब्द |

 

8) मसालोंके नाम भी स्त्री लिंग होता है |

जैसे की – गरम मसाला, दालचीनी, धनिया, एलैची, मिर्ची, लौंग, चाय, कफी, हल्दी आदि शब्द |

 

9) राशि के नाम भी स्त्री लिंग होता है |

जैसे की – धनु, कुम्भ, मिन, तुला, सिंह, मिथुन, कर्क, मेघ, बिच्छु आदि |

 

10) समूहवाचक संज्ञा शब्द भी स्त्री लिंग होता है |

जसी की – सभा, सेना, कक्षा, कमिटी, भीड़ आदि शब्द |

 

11) हमेशा स्त्री लिंग रहने वाला शब्द |

जैसे की – मछली, मक्खी, कोयल, तितली, मैना अदि शब्द |

 

12) जिन संज्ञा शब्द से स्त्री जातिका पता चलता है उसे स्त्री लिंग कहते है |

जैसे की – माता, रानी, लड़की, हंसिनी, कुत्तिया, गाय, बहन, गंगा, औरत, शेरनी, नारी, लोमड़ी आदि शब्द |

 

लिंग परिबतन के नियम

1) ‘अ, आ’कारन्त पुलिंग शब्दों को ‘ई’ कारन्त कर देने से स्त्री लिंग हो जाता है |

जैसे की –

गूंगा  –    गूंगी

देव   – देवी

गधा   –  गधी

नर   – नारी

नाला   –  नाली

 

2) जब किसी अ, आ, वा अंत वाला पुलिंग शब्द को स्त्री लिंग में बदलने के लिए  अ, आ, वा के बदले इया जोड़ा जाता है |

जैसे की –

पुलिंग   –   स्त्री लिंग

बड़ा      –  बुड़िया

बेटा    –  बेटियाँ

बन्दर   –  बंदरिया

 

3) कुछ अक अंत वाला शब्दों मे ‘इका’प्रत्यय जोड़कर स्त्री लिंग बनाया जाता है |

जैसे की उदाहरण

पुलिंग   –   स्त्री लिंग

बालक  –  बालिका

चालक   –  चालिका

अध्यापक  –  अध्यापिका

गायक   –  गायिका

संपादक   –  संपादिका

लेखक  –  लेखिका

सेवक   –  सेविका

 

4) कुछ पुलिंग शब्दों मे ‘इन’प्रत्यय जोड़कर भी स्त्री लिंग बनाया जाता है |

उदाहरण-

पुलिंग    –   स्त्री लिंग

साप    –   सापिन

नाग   – नागिन

माली  – मलिन

बाघ  –  बाघिन

धोबी   –   धोबिन

कुम्हार  –  कुम्हारिन

लुहार  –  लुहारिन

 

5) कुछ पुलिंग शब्दों मे ‘आनी’जोड़कर उसे स्त्री लिंग बनाया जाता है |

जैसे की – उदाहरण

पुलिंग    –   स्त्री लिंग

देवर   –  देवरानी

जेठ   –  जेठानी

सेठ   –  सेठानी

पंडित  –  पंडितानी

नौकर  –  नौकरानी

ठाकुर  –  ठकुरानी

चौधरी  –  चौधरानी

 

6) कोई शब्दों मे पुलिंग और स्त्री लिंग समझाने के लिए स्वतंत्र रूप मे पुरुष और स्त्री की शब्द रहता है |

जैसे की –

पुलिंग   –  स्त्री लिंग

माता  –  पिता

भाई  –  बहन

रजा  –  रानी

वर  –  वधु

बैल  –  गाय

पुत्र  –  कन्या

पति  –  पत्नी

 

7) कुछ संज्ञा हमेशा ही स्त्री या पुलिंग होता है उसे लिंग परिवर्तन करने के लिए ‘नर’या ‘मादा’ शब्द का प्रयोग होता है |

जैसे की –

स्त्री लिंग   –    पुलिंग

कोयल   –  नर कोयल

तितली   –  नर तितली

कौआ   –  नर कौआ

मादा बाज –  बाज

मादा उल्लू  –  उल्लू

मादा भेड़िया –  भेड़िया

कुछ शब्दों का लिंग पर्तिवर्तन

पुलिंग   –    स्त्री लिंग

कवी     –  कवियित्री

बालक  –  बालिका

नाना   – नानी

दादा   –  दादी

छात्र   –  छात्रा

घोडा   –  घोड़ी

राजा   –  राणी

धोबी   –  धोबिन

पंडित  –  पंडिताईन

ठाकुर  –  ठकुराइन

धोबी  –  धोबिन

विद्वान   –  विदुषी

नर   –  मादा

नेता   –  नेत्री

शेर   –  शेरनी

उट  –  उटनी

गायक  –  गायिका

श्रीमान  –  श्रीमती

वर   –  वधु

भेड़  –  भेडा

मामा   –  मामी

चाचा  –  चाची

लड़का  –  लड़की

पिता   –  माता

नाना  –  नानी

सास   –  ससुर

नर    – नारी  (मादा)

मर्द   –  औरत

नौकर  –  नौकरानी

देवर  –  देवरानी

जेठ  –  जेठानी

सेठ  –  शेठानी

पुरुष   –  महिला

नर  –  नारी

दास   –  दासी

लेखक  –  लेखिका

पाठक  –  पाठिका

अध्यापक  –  अध्यापिका

सेवक  –  सेविका

महाराजा –  महारानी

सम्राट   –  सम्राज्ञी

साहब   –  मेम

देव   –  देवी

लिंग किसे कहते है, कि बारे मे हमने क्या क्या सिखा (FAQ / Q&A)

1) लिंग किसे कहते है (Ling kise kahate hain)?

उत्तर : जिन शब्दों द्वारा किसी व्यक्ति, वस्तु या प्राणी का पुरुष या स्त्री होने का बोध कराता है उस शब्द को लिंग कहते है |

 

2) लिंग (Gender) के कितने प्रकार या भेद है ?

उत्तर : हिंदी व्याकरण मे लिंग के दो प्रकार है |

 

3) लिंग के प्रकार या भेद क्या क्या है ?

उत्तर : पुलिंग और स्त्री लिंग है |

 

4) पुलिंग किसे कहते है ? पुलिंग के उदाहरण दीजिए |

उत्तर : जिन संज्ञा शब्दों द्वारा किसी व्यक्ति, वस्तु या प्राणी का पुरुष जाति को बोध कराता है उसे पुलिंग कहते है |

पुलिंग के उदाहरण : – पिता, लड़का, घोडा, शेर, हाथी  आदि

 

5) स्त्री लिंग किसे कहते है ? स्त्री लिंग के उदाहरण दीजिए |

उत्तर : जिन संज्ञा शब्दों द्वारा किसी व्यक्ति, वस्तु या प्राणी का स्त्री जाति का कराता है उसे स्त्री लिंग कहते है |

स्त्री लिंग के उदाहरण : – माता, बहन, महिला, बकरी, शेरनी, मोरनी, गाय आदि |

6) नपुंसक लिंग किसे कहते है ?

उत्तर : जिन शब्द द्वारा ऐसे पदार्थ का बोध होता है की, न तो पुलिंग जाति का बोध हो और न ही स्त्री जाति का बोध होता है, उसे नपुंसक लिंग कहते है |

 

अंतिम अंश

हमारी इस लेख “लिंग किसे कहते है,इसकी परिभाषा क्या है और लिंग के प्रकार कितने है की बारे में आपको पदके कैसा लगा कमेंट बॉक्स में लिख के जरुर बताए | आशा करता हु आपको हमारी लेख पसंद आया होगा और अगर आपकी मन मे कोई संका, सुझाऊ है तो कमेंट बॉक्स मे जरुर लिखिए |

Dhan Lama

मे धन लामा आप सभी को Hindiwebjagat.com पर स्वागत करता हु| इस वेबसईट मे Web Technology, Blogging, Educational, GK Trends News आदि के सठिक और सरल लेख उपलब्ध करता.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *