वचन किसे कहते है | वचन क्या है? वचन के प्रकार या भेद क्या है?

वचन किसे कहते है, इसके  कितने प्रकार या भेद है ?

किसी वस्तु, व्यक्ति या प्राणी को संख्या मे तुलना करने के लिए वचन की जरुरत होते है, यानि किसी भी भाषा मे किसी वस्तु, व्यक्ति या प्राणी को एक या अनेक मे बोध करने के लिए वचन व्यवहार होता है | अर्थात जिस शब्दों द्वारा किसी वस्तु, व्यक्ति या प्राणी को एक या अनेक होने की बोध कराता है उसे वचन कहते है | हिंदी व्याकरण मे वचन अति महत्त्पूर्ण भाग है|

अधिकांश भाषाओ मे दो बचन होता है –एकबचन और बहुवचन, लेकिन संस्कृत और अन्य कोई भाषा मे द्विवचन भी होता है |

वचन किसे कहते है हिंदी मे?

आसान भाषा मे कहे तो वचन एक संख्यावचन है, संख्या की बोध कराता है अर्थात  जिस संज्ञा, सर्वनाम, विशेषण या क्रिया द्वारा किसी वस्तु, व्यक्ति या प्राणी का एक या अनेक होने की बोध कराता है उसे वचन कहते है|

उदहारण – लड़का, लड़की, लड़के, लडकियाँ, किताब, किताबे आदि |

 

वचन कितने प्रकार के होते है ?

हिंदी व्याकरण मे वचन दो प्रकार के होता है  –

क ) एक वचन

ख ) बहुवचन

 

क) एकवचन किसे कहते है ?

जिस शब्दों द्वारा किसी चीज या व्यक्ति या प्राणी की एक ही होने का बोध कराता है उसे एकवचन कहते है |

उदहारण : लड़का, लड़की, माता, पिता, किताब, गाय, पुस्तक, बच्चा, सिपाही, बेटा, घर, गाड़ी आदि |

 

ख) बहुवचन किसे कहते है?

जिन शब्दों द्वारा किसी वास्तु, व्यक्ति या प्राणी की एक से अधिक यानि अनेक होने की बोध कराता है उसे बहुवचन कहते है|

उदहारण : लड़के,  लडकिया, गाये, पुस्तके, मालाए, माताएँ, टोपियाँ, रोटियाँ, बेटे, बेटियाँ, तोते, चूहे, गाड़िया, लताएँ, वधुएँ  आदि|

 

वचन की पहचान कैसे करे?

१. किसी वाक्य मे वचन की पहचान (एकवचन या बहुवचन) उसकी संज्ञा या सर्वनाम शब्दों से होती है |

उदाहरण –

एकवचन                                          बहुवचन

क ) घोडा दौड़ रहा है |                क ) घोड़े दौड़ रहे है |

ख ) वह नाच रही थी |                  ख ) वे नाच रहे थे |

ग ) मे पड़ रहा हु |                       ग ) हम पड़ रहें  है |

ऊपर दिए उदाहरण मे घोडा, घोड़े संज्ञा है और  वह, वे, मे, हम आदि सर्वनाम है

 

२. जब किसी संज्ञा या सर्वनाम से वचन की पहचान न हो तो उसकी क्रिया से वचन की पहचान किया जाता है |

उदाहरण –

एकवचन                                            बहुवचन 

क ) बालक खेल रहा है |               क ) बालक खेल रहे है |

ख ) शेर दौड़ रहा है |                    ख ) शेर दौड़ रहे है |

ग ) मोर नाच रहा था |                    ग ) नार नाच रहे थे |

उक्त वाक्य मे खेल रहा, खेल रहे, दौड़ रहा, दौड़ रहे, नाच रहा, नाच रहे ये सब क्रिया है |

वचन परिवर्तन की कुछ नियम है

एक वचन की जगह बहुवचन की प्रयोग

  1. किसी आदरणीय या सम्मानीय व्यक्ति के लिए एकवचन की जगह बहुवचन का प्रयोग होता है |

जैसे की –

क) गांधीजी महान नेता थे |

ख) भगत सिंह देशप्रेमी थे |

ग) काल गुरूजी नहीं आये थे |

घ) भगत सिंह देशभक्त थे |

 

  1. बड़प्पन दर्शाने के लिए भी एकवचन की जगह बहुवचन व्यवहार करते है जैसे की‘वह’ की जगह ‘वे’ या ‘में’ की जगह ‘हम’ व्यवहार करते है |

जैसे की –

सरपंच ने कहा की, हम मीटिंग के लिए जा रहे है |

आज गुरूजी स्कूल मे आए तो वे बहुत ही खुस लग रहे थे |

 

  1. द्रव्य वाचक संज्ञाओ का प्रयोग एकवचन मे ही होता है |

जैसे – तेल, घी, पानी, दूध, दही,

 

  1. आ”कारंत पुलिंग शब्द के अंत मे आ के जगह  “ए” जोड़ने पर बहुवचन होता है |

जैसे की –

एकवचन    –   बहुवचन

तोता    –    तोते

कमरा  –  कमरे

बच्चा   –  बच्चे

दूल्हा   –  दुल्हे

घोडा   –  घोड़े

गधा   –  गधे

पत्ता   –   पत्ते

बेटा    –  बेटे

छाता  –  छाते

 

  1. जिन स्त्रीलिंग शब्दों के अंत में ‘अ’हो तो ‘अ’ के स्थान पर ‘ए’ कर देने से वह शब्द बहुवचन हो जाता है |

जैसे की –

एकवचन   –  बहुवचन

रात       –     राते

बहन      –     बहनें

पुस्तक    –     पुस्तके

आख      –      आखे

भैस       –      भैसे

गाय      –      गाये

बात      –      बाते

सड़क    –     सड़के

दीवार   –    दीवारे

 

  1. जिन स्त्रीलिंग शब्दों के अंत मे ‘आ’हो तो ‘आ’ के स्थान पर ‘ए’ कर देने से वह शब्द बहुवचन हो जाता है |

जैसे की –

एकवचन   –  बहुवचन 

कविता   –   कविताएँ

माला    – मालाएँ

महिला   –  महिलाएँ

माता     –   माताएँ

बालिका  –  बालिकाएँ

बाधा     –   बाधाएँ

सेना     –   सेनाएँ

कक्षा    – कक्षाएँ

भाषा   –   भाषाएँ

पाठशाला  –  पाठशालाएँ

सेवा     –   सेवाएँ

बाला   –   बालाएँ

 

  1. जिन स्त्रीलिंग शब्दों के अंत मे ‘इ’या ‘ई’ हो तो उनके स्थान पर ‘याँ’ कर देने से वह शब्द बहुवचन हो जाता है

जैसे की-

एकवचन – बहुवचन 

रानी     – रानियाँ

घडी   –  घड़ियाँ

मक्खी   –  मखियाँ

लड़की  –  लडकियाँ

टोपी    –  टोपियाँ

तिथि   –  तिथियाँ

चीटी   –  चीटियाँ

रोटी    –  रोटियाँ

चाबी   –  चाबियाँ

ताली   –  तालियाँ

लिपि   –  लिपियाँ

जाति   –  जातियाँ

विधि   –  विधियाँ

पंक्ति   –  पंक्तियाँ

नीति   –  नीतियाँ

 

  1. जिन स्त्रीलिंग शब्दों के अंत मे ‘या’ हो तो उनके स्थान पर ‘ँ ’ कर देने से वह शब्द बहुवचन हो जाता है

उदहारण –

एकवचन   –   बहुवचन

गुडिया   –  गुड़ियाँ

चिड़िया   –  चिड़ियाँ

डिबिया   –  डिबियॉँ

पुड़िया    – पुड़ियाँ

 

  1. जिन स्त्रीलिंग शब्दों के अंत मे ‘उ’या ‘ऊ’  हो तो ‘उ’ के  स्थान पर ‘एँ ’  और ‘ऊ’ के स्थान पर ‘उएँ’ कर देने से वह शब्द बहुवचन हो जाता है |

उदहारण –

एकवचन    –   बहुवचन

ऋतू   –   ऋतुएँ

वस्तु   –  वस्तुएँ

बधू   –  बधुएँ

 

  1. जिन स्त्रीलिंग शब्दों के अंत मे ‘औ’हो तो उसके स्थान पर ‘एँ’ को जोड़कर बहुवचन किया जाता है |

जैसे की –

गौ  –  गौएँ

 

  1. कुछ शब्द के अंत मे नए शब्द जोड़कर (जैसे -जन, गन, वर्ग आदि शब्द) बहुवचन किया जाता है |

उदहारण –

एकवचन   –   बहुवचन

गुरु          –  गुरुजन

नेता         –  नेतागण

छात्र         –  छात्रगन

सज्जन       –   सज्जनलोग

मजदुर       –  मजदुरवर्ग

श्रोता       –    श्रोतागण

कवि        –   कविवर्ग

 

वचन के कुछ प्रश्न और उत्तर (Q&A)

वचन किसे कहते है ?

उत्तर :जिस शब्दों द्वारा किसी वस्तु, व्यक्ति या प्राणी को एक या अनेक होने की बोध कराता है उसे वचन कहते है |

जैसे की – लड़का, लड़की, लडकियाँ, किताब, किताबे, महिला आदि |

 

हिंदी में वचन कितने है और क्या क्या है ?

उत्तर : दो है, एकवचन और बहुवचन |

 

सांकृत मे वचन कितने है और क्या क्या है ?

उत्तर : तिन है | एकवचन, बहुवचन और द्विवचन |

 

एकवचन किसे कहते है ?

उत्तर : जिस शब्दों द्वारा किसी चीज या व्यक्ति या प्राणी की एक ही होने का बोध कराता है उसे एकवचन कहते है |

जैसे की – किताब, लता, तोता, लड़का, लड़की |

 

बहुवचन किसे कहते है?

उत्तर : जिन शब्दों द्वारा किसी वास्तु, व्यक्ति या प्राणी की एक से अधिक यानि अनेक होने की बोध कराता है उसे बहुवचन कहते है|

जैसे की – लडकियाँ, किताबे, पुस्तके, लड़के |

द्विवचन किसे कहते है?

जिन शब्दों द्वारा किसी वास्तु, व्यक्ति या प्राणी का दो होने का बोध कराता है, संस्कृत में  उसे द्विवचन कहते है?

जैसे की – बालकौ, बालिके, फले |

अंतिम संश

आशा है हमारी इस लेख ‘वचन किसे कहते है (वचन क्या है) और वचन के प्रकार या भेद क्या क्या है’ की बारे मे सायद पसंद आया होगा |अगर आपकी मन मे कोई संका या सवाल या सुझाऊ है तो निचे कमेन्ट बॉक्स मे लिख सकते है और लेख अच्छी लगे तो अपने फेसबुक या अन्य सोशल मीडिया मे शेयर कर सकते है |

Dhan Lama

मे धन लामा आप सभी को Hindiwebjagat.com पर स्वागत करता हु| इस वेबसईट मे Web Technology, Blogging, Educational, GK Trends News आदि के सठिक और सरल लेख उपलब्ध करता.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *